Chutki Bhar Aansu Aur Mutthi Bhar Khushi - Devendra Sharma


 चुटकी भर आंसू और मुठ्ठी भर ख़ुशी ;
__________________

थोड़े से अरमाँ , ख्वाहिशें नयी ;
सितारों की चाहत है किसको यहाँ ;
लकीरों से ज्यादा है माँगा कहाँ ;
सुलगते मनुजमन के अरमाँ यही;
चुटकी भर आंसू और मुठ्ठी भर ख़ुशी॥
परश्तिश बुतों की हैं करते वही ;
लकीरों से नाखुश जो रहते सदा ;
वीरानी राहें डराती उन्हें ;
सरलतम सफ़र चाहे फूलों भरा ;
मगर उनको मिलता है अक्सर वही ;
चुटकी भर आंसू और मुठ्ठी भर ख़ुशी ॥

- देवेन्द्र शर्मा -
__________________

2 comments:

Iti Shukla said...

really gud! lukin 4ward 2 more of ur postings here :) :)

Antarman said...

Thanx a lot:)

Post a Comment