Pyaas Barkarar Rakh - Ashish Pant

प्यास बरकरार रख
_____________________

धूप हो कड़ी तो क्या            
तीरगी घनी तो क्या
लक्ष्य का अमृत भी तू            
पायेगा पर इतना तो कर
प्यास बरकरार रख            
तू प्यास बरकरार रख

मंजिलें कभी कभी                
अदृश्य जो लगें तुझे
तू तनिक आराम कर              
एक गहरी सांस भर
आस बरकरार रख                  
तू प्यास बरकरार रख

राह हो, थकान हो                      
बाधाएँ तमाम हों
नींद भी गर ले पथिक                     
जगे हुए ख्वाब संग
रास बरकरार रख                             
तू प्यास बरकरार रख

हाँ, छूटते हैं आसरे                       
हाँ, छूटते हैं काफिले
पर सांस छूटने तलक                    
दिल में हौसलों का तू
वास बरकरार रख                   
तू प्यास बरकरार रख

बस धड़कने से ही नहीं                   
दिल हो जाता दिल है
आदमी बने इन्सान                       
इसीलिए दिल में तू
आभास बरकरार रख                      
तू प्यास बरकरार रख

हर हर्फ़ में जो पीड़ हो                           
वक़्त गूढ़ गंभीर हो
फीके क्षणों की धार में                             
थोड़ी हँसी को घोल के
परिहास बरकरार रख                           
तू प्यास बरकरार रख

गुलशन जब बेनूर हो                           
और वसंत कुछ दूर हो
क्रूर खिज़ाओं में डटकर                         
अपनी आरजूओं के
अमलतास बरकरार रख                          
तू प्यास बरकरार रख

नौ भावों से है बना
ये ज़िन्दगी का चित्र है                            
इक भी कम नहीं पड़े
खुद में नवरसों का तू                        
एहसास बरकरार रख
तू प्यास बरकरार रख                       

कल  ही कल की नींव था
कल ही कल का सार है                         
कभी भी ये भूल मत
भविष्य को तू साध पर                         
इतिहास बरकरार रख
तू प्यास बरकरार रख                        

पहले वार में कहाँ                    
कटे कभी पहाड़ हैं
हर नदी मगर मिली                  
अन्तः अपने नदीश से
बस, प्रयास बरकरार रख                  
तू प्यास बरकरार रख

~~ आशीष पंत ~~
_____________________

0 comments:

Post a Comment