=============================================================================================================================
|| आपकी सेवा में देश के प्रतिष्ठित कवियों द्वारा रचित चुनिंदा हिन्दी कविताओ का अनूठा संकलन ||
=============================================================================================================================

Wednesday, September 19, 2012

, , , ,

Kuch lamhe chura le raaton se - Mamta Sharma

Share
" कुछ लम्हे चुरा लें रातों से "
____________________

कुछ लम्हे चुरा लें रातों से 
छिप छिप कर चलो उड़ जाएँ हम 
इस राग रंग के झंझट से ,
कुछ देर किनारा पायें हम . 
कुछ लम्हे चुरा लें रातों से 

कुछ देर करें बातें अपनी 
कुछ देर सुनें उनकी बातें .
कुछ दर्द के लम्हे हों लब पर 
कुछ हों खुशियों की सौगातें 
कुछ भी ना छिपायें मन में हम 
 कुछ लम्हे चुरा लें रातों से .
कभी करें पुरानी याद नई 
कभी लें आहट आगत की भी 
कभी बुनें नए से स्वप्न ढेर 
कभी ले का आयें सुबह नई 
इन सारी बातों की खातिर 
कुछ लम्हे चुरा लें रातों से 

ओ मेरे बेकल मन तू भी 
कुछ ठौर तो पा ले एक घडी 
यूँ दौड़ता ही जो जाएगा 
एसे तो तू थक जाएगा 
रुक सुन ले इनकी बात अभी 
कुछ लम्हे चुरा लें रातों से 
~~ ममता शर्मा ~~

____________________

1 comments:

  1. प्रिय सदस्य,

    कुछ तकीनीकी कारणों से आपका ब्लॉग हमारीवाणी पर अपडेट नहीं हो पा रहा है, कृपया इस ब्लॉग को हमारीवाणी पर दुबारा सबमिट करें.

    आपको हो रही असुविधा के लिए हमें खेद है.

    आभार
    टीम हमारीवाणी

    ReplyDelete