Kuch Log Masiha kehte hain - Ashish Pant


__________________________
कुछ लोग उसे मसीहा कहते हैं
__________________________


सरापा इश्क ही से भरपूर था वो,
कुछ लोग उसे मसीहा कहते हैं |



अंदाज़ उन के भी अजीब कम नहीं,
कभी निहां कभी नुमाया रहते हैं |



उनके दरमियाँ बस मोहब्बत ही थी,
बाकी कहें, कैसे इक दूजे को सहते हैं |



आखिर डूब गया, वो जो कहता था,
कि आ चल दोनों संग संग बहते हैं |



वक़्त धीमे धीमे रिसता ही जायेगा,
ऐसे बाँध यक-ब-यक नहीं ढहते हैं |

" आशीष पंत "
__________________________

0 comments:

Post a Comment