=============================================================================================================================
|| आपकी सेवा में देश के प्रतिष्ठित कवियों द्वारा रचित चुनिंदा हिन्दी कविताओ का अनूठा संकलन ||
=============================================================================================================================

Saturday, August 18, 2012

, ,

Apna watan - Kusum

Share
अपना वतन 
_________

अपनी जमीन अपना गगन , बहती सुगन्धित मोहक पवन

इसके नज़ारे चुराता है मन, सबसे प्यारा है अपना वतन
उत्तर में इसके हिमालय खड़ा, दक्षिण में सागर का पहरा अड़ा
पूरब में इसके खाड़ी बड़ी , पश्चिम में अर्णव करे चौकसी
हम तो सभी से इतना कहे हिन्दू मुसलमान मिल के रहे
नफरत की आंधी अब न चले प्रेम का दरिया दिल में बहे
अब वतन में रहे बस अमन हर बुलंदी पे चढ़ता रहे अब वतन
लक्ष्य से विचलित ना हो मन रखना सुरक्षित अपना वतन
शत्रु की चाल को करके विफल दिखला देगे हम अपना बाहुबल
बस लबो पे रहे हरदम सबसे प्यारा है अपना वतन
सबसे प्यारा है अपना वतन सबसे न्यारा है अपना वतन
इसके चरणों में मेरा नमन इसपे वारेगे हम जान ए तन
अपना वतन अपना वतन सबसे प्यारा है अपना वतन

जयहिंद जयभारत !!


-       कुसुम 

__________

0 comments:

Post a Comment