=============================================================================================================================
|| आपकी सेवा में देश के प्रतिष्ठित कवियों द्वारा रचित चुनिंदा हिन्दी कविताओ का अनूठा संकलन ||
=============================================================================================================================

Wednesday, April 27, 2011

, , , , ,

Chahat Sukoon Ki - Ankita Jain

Share


_______________________

चाहत सुकून की
_______________________

हम बेठे थे उस कश्ती में,
               जिस कश्ती में पतवार ना थी !
देखी मंजिल उस खंज़र में,
                जिस खंज़र में भी धार ना थी !!


सपने तो बहुत सजाने थे,
                पर पलकों ने नामंज़ूर किया !
ये उन लम्हों के मंसूबे थे,
                        कि ख़्वाबों को ताला लगा दिया   !!
चाबी टांगी उस खूँटी पर,
                जो खूँटी बिन दीवार क़ी थी !
पाने भी चढ़े उस सीढ़ी पर,
                        जिस सीढ़ी में कोई लकार ना थी !!


माना अब तक कुछ मिला नहीं,
            पर संतुष्टि ऐसा शब्द  मिला !
जो खुदमे ही सम्पूर्ण नहीं,   
                          जिसने चाहा उसे न कभी आराम मिला !
हमने भी पाने वो राह चुनी,
                 जहाँ हर कदम पे दूरी बढ़ती थी !
मंजिल बस होती थी दुगनी,
                     पर हर साँस पे  उम्र तो  घटती थी !!

अब फिर पाना चाहूँ वो जीवन,
                     जहाँ थोक में परियाँ मिलती थीं !
कागज़ के फूल भले ही थे,
                  पर खुशबु असल महकती थी !
पर अब हम बैठ चुके उस कश्ती पर,
                  जिस कश्ती में पतवार ना थी !
देखी मंजिल उस खंज़र में,
                   जिस खंज़र में भी धार ना थी !!

~~ अंकिता जैन~~

_______________________

2 comments: