Aao Na Mitwa - Hari Prasad Sharma

_______________________

आओ ना मितवा - हरि प्रसाद शर्मा 
_______________________


आओ ना मितवा अभी मन है प्यासा,
रुको जब तक हलचल है, जीवित है आशा |

यमुना का तट था औ कदम्बो की डाली,
बिन राधा थे बैठे जहा श्याम खाली,
बरनिया के कुंजो मे झूल थे हम तुम,
उन सखियों से छिपकर मिले भी थे आली |

तब पूनम की रातो में संग-संग विचरना,
वो फूलो की सेजों पे खुद में सिमटना,
वो कंपते से अधरों पे प्यार की वर्षा,
याद है वो दोनों का एक होकर मिलना |

याद है वो स्वप्निल सी भीगी-भीगी राते ,
तुमने लिखे ख़त और मीठी-मीठी सी बाते,
जाओ ना मितवा अभी मौसम है प्यारा,
अकेले खेल में झेलूँगा, रोज शह और माते |

आओ ना मितवा अभी मन है प्यासा,
रुको जब तक हलचल है,जीवित है आशा ||

~~ हरि प्रसाद शर्मा ~~
_______________________

0 comments:

Post a Comment