=============================================================================================================================
|| आपकी सेवा में देश के प्रतिष्ठित कवियों द्वारा रचित चुनिंदा हिन्दी कविताओ का अनूठा संकलन ||
=============================================================================================================================

Thursday, April 21, 2011

, , , , , , ,

Aadmi Ne Naap Daali - Sankatha Prasad Dwivedi

Share
_____________________
आदमी ने नाप डाली 
   :- शंकथा प्रसाद द्विवेदी  "विनोदी "
_____________________

आदमी ने नाप डाली चाँद तक की  दूरियां ,
आदमी तक पहुँच पाना पर अभी तक शेष है |
सागरों के पाँव डाली आज हमने बेड़ियाँ ,
आंसुओं की थाप पाना पर अह्बी तक शेष है |

यन्त्र स्वर में दब गयी हैं धड़कने इंसान की ,
अब न कोई राह आती अडचने ईमान की |
हम प्रगति के नाम पर अब बढ़ रहे कुछ इस तरह,
चकित होकर देखती हैं हरकतें शैतान की |

हम बढ़ने जा रहे आदिशक्ति  की चिंगारियां,
धुंआ मन ka  दूर करना पर अभी तक शेष है |
आदमी ने नाप डाली चाँद तक की दूरियाँ ,
आदमी तक पहुँच पाना पर अभी तक शेष है |

भावनाओं के लिए यूँ तो बनाये ताज तक ,
दर्द लेकिन झोपड़ी का हम न समझे आज तक |
यीशु गौतम गंध  सब दे गए सन्देश अपने,
पर कहा अब गूंजती उनकी कही आवाज तक |

विश्व में बजने लगी जनतंत्र की शेह्नाइयां ,
भूक को चन्दन लगाना पर अभी तक शेष है |
आदमी ने नाप डाली चाँद  तक की दूरियां ,
आदमी तक पहुँच पाना पर अभी तक शेष है ||



0 comments:

Post a Comment