=============================================================================================================================
|| आपकी सेवा में देश के प्रतिष्ठित कवियों द्वारा रचित चुनिंदा हिन्दी कविताओ का अनूठा संकलन ||
=============================================================================================================================

Friday, March 25, 2011

, , , , , , , ,

Tutata Khwab - Ankita Jain

Share

_____________________________________________
टूटता ख्वाब - अंकिता जैन (भंडारी)
_____________________________________________



आये  थे  वो   मेरी  ज़िन्दगी  में , एक  हसीं  सपने  की  तरह .
कुछ  पल  ठहरे  और  चले  गए ,
ओस  की  बूंदों  की  तरह .
क्या  गिला  करें  उनसे  ,
जब  हमे  किस्मत  ने  दगा  दिया .
और  समझकर  हसीं  ख्वाब
उसने  हमे  भुला  दिया .
था  वफाओं  का  जो  महल  ढहा ,
ताश  के  पत्तों  की  तरह .
आये  थे  वो  मेरी  ज़िन्दगी  में , एक  हसीं  सपने  की  तरह .

नादाँ  है  ये  दिल  कहता  है ,
वो  वापस  आयेंगे .
सीने  से  लगाकर  मुझे  अपने
हर  शिकवे  को  मिटायेंगे .
कैसे  यकीन  दिलों  इसे  की ,
उसने  तो  हमे  भुला  दिया .
और  एक  पल  में  अपने  से
बेगाना  बना  दिया .
बिखर  गयी  हर  उम्मीद  आज ,
रेट  के  टीले  की  तरह .
आये  थे  वो  मेरी  ज़िन्दगी  में , एक  हसीं  सपने  की  तरह .


~~ अंकिता जैन (भंडारी) ~~

_____________________________________________

0 comments:

Post a Comment