Trasadi - Ankesh Jain

____________________________________
त्रासदी
                     - अंकेश जैन
____________________________________

यह कविता उस त्रासदी को दर्शाती है जिसे जापान जैसे एक अत्यंत विकशित देश को झकझोर कर रख दिया|
यह दर्शाती है की मानव जाती आज कितनी ही बुलंदियों पे हो ,परन्तु आज भी वो श्रृष्टि के असीम ताकत  के सामने विवश है | हम उसे रोक तो ना सके न ही सकते है ,पर एकजुट होकर उसके दर्द को कम किया जा सकता है | इन विध्वंशकारी त्रासदियों को रोकने का एकमात्र उपाय अपनी श्रृष्टि के नियमो का पालन करना एवं उसमे संतुलन लाने हेतु ग्रीन हाउस गसेस के उत्सर्जन को कम करना होगा | यह कोई एक कारन इसकी जिम्मेदार नहीं है , पर यह उनमे से एक बड़े कारणों में से है |
                                                                        _ आदर्श

________________________________

क्षण भर के कम्पन ने फिर से

एक नयी त्रासदी ढा दी

कितनी सूक्ष्म असहाय जिन्दगी

जल तरंग ने पल में बहा दी

असंभव घटनाओ का

यह कैसा क्रम है छाया

नाभिकीय विस्फोटो से

विकिरण निकल बाहर है आया

ढूढ़ रहे है दूर दूर से

आये नयन मनुज के तन को

अपने स्वप्नो के मलवे में

छिपे हुए मानव के मन को

स्वयं झूझती सीमाओ से

आज अर्ध्सुप्त सी काया

सकल विश्व हुआ एक है

यह संकट मानव पर आया |


~~ अंकेश जैन ~~
____________________________________


1 comments:

gaurav mani khanal said...

kisi ne sahi kaha hai: bhagwan dete ho to bhi hajaro hatho se aur jab lete hai to bhi hajaro hatho se..

excellent work bro.....

Post a Comment