Nigahein - Kusum

__________________________

निगाहे - कुसुम
__________________________

जो हम नहीं कह सकते,  
            वो हमारी निगाहे कहती है ||

तुम्हे आपना बनाने को
            ये हर पल तरसती है
तुम समझो या न समझो  
            हमे तुम से मोहोब्बत है 
ये हम नहीं कहते
            ये हमारी निगाहे कहती है |

दिया तुमने जो दोखा,
             तो हम टूट जायेंगे,
जीयेंगे फिर भी हम 
             पर हम जी न पायेंगे
ये हम नहीं कहते
            ये हमारी नेगाहे कहती है ||.




~~ कुसुम ~~     







__________________________

1 comments:

milap singh said...

bhut sunder hai....

Post a Comment