Mehfil - e - Mohobbat - Ankita Jain


_______________________

महफ़िल - ए - मोहब्बत - अंकिता जैन (भंडारी)

_______________________

आपकी महफिल मे आकर ही अब,

                         इस दिल को सुकून आता है ।

बिन आपके जीने के ख्याल से,

                    अब ये दिल डर जाता है ।


क्यू हर ख्याल मे अब सिर्फ्,
               आप नज़र आते है ।


मेरे सारे लफ्ज और दिल कि हर धडकन,

                                  सिर्फ आपका नाम गुनगुनाते है ।

अब तो ये दिल भी मुझे,

                       आपके नाम से सताता है ।

आपकी महफिल मै आकर ही अब,

                            इस दिल को सुकून आता है ।



थी जिस खुशी की बर्षो से चाह,

                                    अब अपनी होती नज़र आती है ।

अब आपके होने कि आहट ही,

                                मेरे बर्षो की प्यास बुझाती है ।

जाने क्यू अब ये दिल,

                              आपकी जुदाई से डरता है ।

ना देंगे कभी वो रुसवाई,

                                       अब हर पल मुझसे ये कहता है ।


वो कहते है मुझसे , क्यू-

                          इतना यकीन तू करती है,

क्या कहू मै जब ये दिल भी जब उन्ही के लिये धडकता है........

                      आपकी महफिल मे आकर ही अब इस दिल को सुकून मिलता है.................॥


~~ अंकिता जैन ~~

_________________________

0 comments:

Post a Comment