=============================================================================================================================
|| आपकी सेवा में देश के प्रतिष्ठित कवियों द्वारा रचित चुनिंदा हिन्दी कविताओ का अनूठा संकलन ||
=============================================================================================================================

Saturday, February 26, 2011

, , , , , ,

Rah kaun si jaun main? - Atal Bihari Bajpayee

Share
_____________________________
राह कौन सी जाऊं मैं - अटल बिहारी वाजपेयी
_____________________________


                                        राह कौन सी  जाऊं मै ?
                                चौराहे पर लूटता  चिर ,
                                प्यादे से पित गया वजीर ,
                                चलूँ आखीरी चाल की बाज़ी या छोर विरक्ति रचूँ मै ?

                               राह  कौन सी जाऊं मै ?
                               सपना जन्मा और मर गया ,
                               मधु ऋतू में ही बाघ जहर गया ,
                               तिनके बिखरे हुए बटोरूँ या  नव सृष्टि सजाऊँ मै ?
                               राह  कौन  सी  जाऊं  मै?


                                दो दिन मिले उधार में ,
                                घाटे के व्यापार में ,
                                क्षण - क्षण का हिसाब जोरूं या पूंजी शेष लुटाऊं मै ?
                                राह  कौन  सी  जाऊं  मै ?
                                           

                                         ~~ अटल बिहारी वाजपेयी ~~

_____________________________

0 comments:

Post a Comment