मिली सच्चाई - अंकिता जैन
Mili Sacchai - Ankita Jain


____________________________

इक दिन अनजाने में मिली सच्चाई ,
थोड़ी सहमी, थोड़ी घबरायी ,
धीरे से मुझे पास बुलाकर ,
कहने लगी अब शामत आई ,
आँखों में आंसू भरकर ,
अपनी कहानी मुझे सुनाई ,
कहने लगी सपने में मैंने ,
खतरे सी की इक आहट पाई ,
अपने दिल से मुझे हटाकर ,
झूठ की चादर सबने चढ़ाई,
इक दिन अनजाने में मिली सच्चाई ,
थोड़ी सहमी, थोड़ी घबरायी …..
 





बदल गयी रिश्तों की भाषा ,
प्यार ने ली इक नयी परिभाषा ,

सादगी से दूर कहीं अब ,
प्रदर्शन पर तीर है साधा ,
  कॉलेज में जब पड़ने जाएँ ,
टीचर, लेकचर सभी भुलाएँ ,

हर दिन इक नयी कहानी बनाये ,

झूठ के हर रिश्ते अपनाएं ,
वफ़ा हटाकर हर व्यक्ति ने ,
बेवफाई दिल में है बसाई
इक दिन अनजाने में मिली सच्चाई ,
थोड़ी सहमी, थोड़ी घबरायी ….
                      
                               अंकिता जैन

____________________________

12 comments:

Ankita Jain said...

thank you "kavitapustak" to publish my poem on homepage..:)

Kanchan said...

yet another good one.. keep up the good work!

kailash golecha said...

Hey...really nice one....gud luck for next one....

keep it up...<>

Ankita Jain said...

Kanchan @ thanks...:)
kailash @ thanks..:)

satish said...

it's really nice...god bless you

Ankita Jain said...

satish @ thanks

gaurav mani khanal said...

Good one, Liked it :)

vikas chandra pandey said...

thoughts beyond any1 imagination actually can say AWESOME!!!

ANKITA said...

gaurav @ thanks.:)
vikas @ thanks.:)

Sandesh said...

The last six lines are fabulous. keep on

Ankita Jain said...

thanks...:)

Meet said...
This comment has been removed by a blog administrator.

Post a Comment