=============================================================================================================================
|| आपकी सेवा में देश के प्रतिष्ठित कवियों द्वारा रचित चुनिंदा हिन्दी कविताओ का अनूठा संकलन ||
=============================================================================================================================

Tuesday, February 22, 2011

, , , , , , , , ,

हरी हरी दूब पर - अटल बिहारी वाजपई
Hari hari doob par - Atal Bihari Vajpayee

Share
______________________________

                         हरी हरी दूब पर ओस की बूंदे
                         अभी थी,अभी नहीं हैं|
                         ऐसी खुशियाँ जो हमेशा हमारा साथ दें
                         कभी नहीं थी, कहीं नहीं हैं|
                         कायर की कोख से,फूटा बाल सूर्य,
                        जब पूरब की गोद में,पाँव फैलाने लगा,
                        तो मेरी बगीचे का पत्ता-पत्ता जगमगाने लगा,
                        मैं उगते सूर्य को नमस्कार करूँ
                        या उसके ताप से भाप बनी, ओस की बुँदों को ढूंढूँ?

                        सूर्य एक सत्य है , जिसे झुठलाया नहीं जा सकता
                        मगर ओस भी तो एक सच्चाई है
                        यह बात अलग है कि ओस क्षणिक है
                        क्यों न मैं क्षण क्षण को जिऊँ?
                        कण-कण मेँ बिखरे सौन्दर्य को पिऊँ?

                        सूर्य तो फिर भी उगेगा, धूप तो फिर भी खिलेगी,
                        लेकिन मेरी बगीचे की हरी-हरी दूब पर,
                        ओस की बूंद, हर मौसम में नहीं मिलेगी|

                         ~~ अटल बिहारी वाजपेयी ~~
 
______________________________

2 comments:

  1. One wrd is wrong in the poem...its not 'kayar ki kokh se foota baal surya', correct is 'kvaar ki kokh se foota baal surya.'

    ReplyDelete