=============================================================================================================================
|| आपकी सेवा में देश के प्रतिष्ठित कवियों द्वारा रचित चुनिंदा हिन्दी कविताओ का अनूठा संकलन ||
=============================================================================================================================

Friday, February 18, 2011

, , , , , , , ,

हक़ीकत - अंकिता जैन
Haquiqat - Ankita jain

Share
आज ज़िन्दगी की हक़ीकत से मुलाक़ात हुई,
मायने समझा दिए जीने के 

जब उसने ये बात कही |

वो इन्द्रधनुष या पवन गंगा ,

हो पर्वत या रंग फूल का
नैनों  के इस जोड़े से तुमने ,

जीवन के हर क्षण को देखा |
क्या सोचे कभी मायने इनके?

ना जाना तो पूछों उनसे|
बिन इनके जिनकी दुनिया में ,

हर लम्हा काली रात रही
मायने समझा दिए जीने के

जब उसने ये बात कही ||

एक आंसू पर जान लुटा दे,
माँ रब का वो रूप है
घने वृक्ष सी छाया दे
वो पिता ,जहाँ भी धुप है |

बिन इनके क्या होती दुनिया
ना मिले जिन्हें ये पूछो उनसे
जिनकी आँखों में खुशियों को ,
हर पल पूरी करने की चाह रही
मायने समझा दिए जीने के
जब उसने ये बात कही..

अब क्यूँ हो उदास ये पूछो खुद से
क्या नहीं मिला जो माँगा रब से
आज हिला दी हर जड़ मेरी 
जब उसने ये सच्चाई कही
                                       मायने समझा दिए जीने के
                                        जब उसने ये बात कही...

                                                           ___ अंकिता जैन

22 comments:

  1. अंकिता जी आपको आपकी पहली कविता के लिए हार्दिक बधाई |

    उम्मीद है लोगो को ये कविता पसंद आएगी ..

    ReplyDelete
  2. मैं आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ, धन्यवाद.

    Ankita Jain

    ReplyDelete
  3. too good.......an awesome poem...........!!
    heartiest congratulations on ur first poem..
    hats off to u dear....keep going.make us proud ..:)

    ReplyDelete
  4. very good ankita ji... that poem is too good... best wishes for your future...

    ReplyDelete
  5. vikas @ thanks
    Ashish @ thanks dear.

    ReplyDelete
  6. very nice poem dear...
    Congr8s:)
    wish you gud luck ahead!

    ReplyDelete
  7. a real beautiful poem.. as always!
    congrats dear! wish u lots n lots of success ahead.. God bless!

    ReplyDelete
  8. sach me zindagi ki haqiqat hai.......
    bahut hi achhi kavita hai.....aur sacchi.....

    ReplyDelete
  9. It's really very touching poem. But there is a request please add this five lines in your poem -
    nind se jaagne ke baad bhi andhera hai;
    har khwad,bina pankh ka panchi,ise dil me daale hue dera hai;
    na samaj paye dard me chupe unke khwab ki ankahi,
    par mayne samjha diye jine ke
    jab usne ye baat kahi.

    ReplyDelete
  10. Hey anky, i am gan of your poems. So hope so you will consider my request. take care

    ReplyDelete
  11. Thank sandesh...and nice lines..:)

    ReplyDelete