Daulat ka nasha - Shrawan Kumar Dwivedi "Arya"

__________________________________

दौलत का नशा - श्रवण कुमार द्विवेदी "आर्य"

__________________________________

आज ये दौलत का कैसा नशा छा रहा है
ईमान डगमगा रहा है
इसे पाने के लिए इन्सान इन्सान को खा रहा है
अब सब कुछ दौलत में सिमट गया है
इसकी रफ़्तार में ईमान का दामन घिसट गया है
इज्ज़त, ईमान, इंसानियत
कुछ नहीं बचा सब ख़तम हो गया
यहाँ पैसे के बाज़ार में सब रद्दियों के भाव तुल गया
झूठ, फ़रेब, अत्याचार, बेईमान
सब शान से सर हिला रहे हैं
पैसे की आड़ में इंसानियत को खा रहे हैं
जिसको देखो वही इसके पीछे भाग रहा है
अपना काम साध रहा है
और भ्रष्टाचार अपनी सीमा लाँघ रहा है
अबला की इज्ज़त, नेताओं का राष्ट्रप्रेम
युवाओं का जोश, बुद्धिजीवियों की सोच,
जनता का वोट, खिलाडियों का खेल
सब कुछ यहाँ कौड़ी के भाव बिकता है
आवाम का ईमान यहाँ नोटों में तुलता है

~~ आर्य ~~

 __________________________________

0 comments:

Post a Comment