=============================================================================================================================
|| आपकी सेवा में देश के प्रतिष्ठित कवियों द्वारा रचित चुनिंदा हिन्दी कविताओ का अनूठा संकलन ||
=============================================================================================================================

Saturday, February 26, 2011

, , , , , ,

Apne Aap Se Mulakaat - Ankita Jain

Share
____________________________
अपने आप से मुलाकात - अंकिता जैन 
____________________________ 

                              यूँहीं रस्ते में जाते हुए,
                              जब किसी का ज़नाज़ा देखा
                              तो लगा जैसे मैंने खुली आँखों से,
                              अपनी ही मौत का पैमाना देखा .


                              क्यूँ आये हैं हम इस दुनिया में?
                              ना जाना कभी उस हक़ीक़त को
                              पहचान ले खुद को है कहाँ भरोसा ज़िन्दगी का
                              ना जाने कब यमराज आकर कह दें बस
                              अब संग मेरे चलो

                                                 मिल जाना है इक दिन सब मिट्टी में,
                                                 हुआ यकीन जब उसको चार काँधों पर देखा
                                                 तो लगा जैसे मैंने खुली आँखों से,
                                                 अपनी ही मौत का पैमाना देखा

                                                 गँवा दिया वक़्त का हर पहलू
                                                 क्यूँ सिर्फ उंगली उठाने में,
                                                 क्यूँ नहीं की सिर्फ इक कोशिश
                                                 हकीक़त अपनी पहचानने में
                                                 बन गया अब बचपन इक किस्सा |
                             घूमा कुछ यूँ जब वक़्त का चरखा
                             तो लगा जैसे मैंने खुली आँखों से,
                             अपनी ही मौत का पैमाना देखा 
 

 ~~अंकिता जैन~~

_______________________________________

6 comments:

  1. beauty at its best....very nice

    ReplyDelete
  2. thanks for writing and sharing such kinda poems..
    really loved it :)

    ReplyDelete
  3. The answer of your question ( Kyu aaye hai ise duniya mein )
    Yun toh aasma ka kinara har manjil pe utna hi dur najar aata hai,
    Par mukadar nahi hai itna chota sa afsana.
    Yun toh insan ka mukadar hai mithi me mil jana,
    Par haqiqat nahi hai itna chota sa afsana.
    Reply

    ReplyDelete