Ek Baras Beet Gaya - Atal Bihari Vajpayee
एक बरस बीत गया - अटल बिहारी वाजपेयी

___________________________________



झुलसाता जेठ मॉस
शरद चांदनी उदास
सिसकी भरते सावन का
अंतर्घट रीत गया
एक बरस बीत गया


सीकंचो में सिमटा जग
किन्तु विकल प्राण विहाग
धरती से अम्बर तक
गूँज मुक्ति गीत्गाया
एक बरस बीत गया




पथ निहारते नयन
गिनते दिन पलछिन 
लौट कभी आएगा
मन का जो मीत गया
एक बरस बीत गया
___________________________________

0 comments:

Post a Comment